Type Here to Get Search Results !
Type Here to Get Search Results !

मुहावरे व लोकोक्तियाँ Part-2 | मुहावरे एवं लोकोक्तियाँ क्या है?

मुहावरे एवं लोकोक्तियाँ इन हिंदी

  • एक आंख से देखना - सभी के साथ एक समान व्यवहार करना। 
  • कमर कसना - तैयार होना।  
  • एड़ी चोटी का जोर लगाना - बहुत प्रयास करना। 
  • कच्चा चिट्ठा खोलना - रहस्य बताना। 
  • एक ही थैली के चट्टे बट्टे होना - एक ही प्रवृत्ति के होना। 
  • औने पौने करना - कम कीमत में बेच देना। 
  • एक ही लाठी से हांकना - सबके साथ एक समान व्यवहार करना। 
  • ओखली में सिर झोकना - जानबूझकर झंझट में पड़ना।  
  • ऋण उतारना - कर्ज चुकाना। 
  • उल्टी माला फेरना - अहित सोचना। 
  • ऋण मढ़कर जाना - अपना कर्ज किसी अन्य पर डालना। 
  • उल्टी पट्टी पढ़ाना - गलत शिक्षा देना। 
  • एक और एक ग्यारह होना - संगठन में शक्ति होना। 
  • कलेजा ठंडा होना - मन को शांति मिलना। 
  • काम निकालना - अपना मतलब पूरा करना। 
  • कागजी घोड़े दौड़ाना - केवल कागजी कार्यवाही करना। 
  • कान भर जाना - सुनते सुनते पक जाना। 
  • काठ का उल्लू होना - महामूर्ख होना। 
  • कमर कसना - तैयार होना। 
  • कान खड़े होना - चौकना होना। 
  • कब्र में पाँव लटकना -  मृत्यु के निकट होना। 
  • कान पकड़ना - अपनी गलती स्वीकार करना। 
  • कफन की कौड़ी ना होना - अत्यंत दरिद्र होना। 
  • कान में तेल डाल कर बैठना - सुनकर भी अनसुना करना। 
  • कतर ब्योत करना - काट छाँट करना। 
  • क्रोध काफूर होना - गुस्सा गायब होना। 
  • कीचड़ उछालना - बेइज्जत करना। 
  • काल कवलित होना - मर जाना। 
  • कुएं में भांग पड़ना - सबकी बुद्धि भ्रष्ट होना। 
  • किताबी कीड़ा होना - हर समय कुछ ना कुछ पढ़ते रहना। 
  • कान खोलना - सावधान करना। 
  • कूच करना - चले जाना। 
  • कलेजे का टुकड़ा होना - बहुत प्रिय होना। 
  • कोढ़ में खाज होना - दुख में और दुख आना। 
  • कान कतरना - चतुराई दिखाना। 
  • कमर कसना - तैयार होना। 
  • कंधे से कंधा मिलाना - साथ देकर चलना। 
  • कलेजा मुंह को आना - घबरा जाना। 
  • कान पर जूं तक न रेंगना - कोई असर ना पड़ना। 
  • कान का कच्चा होना - जल्दी से किसी के बहकावे में आ जाना। 
  • कोड़ी के मोल बेचना - अत्यंत सस्ता होना। 
  • कान भरना - चुगली करना। 
  • कोल्हू का बैल होना - निरंतर काम में जुटे रहना। 
  • किला फतह करना - किसी कठिन कार्य में सफलता प्राप्त करना। 
  • घी के दिये जलाना - खुशियां मनाना। 
  • खाल खींचना - बहुत पिटाई करना। 
  • घुटने टेकना - हार मांगना। 
  • हाथ पकड़ लेना - बहुत बीमार पड़ जाना। 
  • घोड़े बेचकर सोना - निश्चिंत होकर सोना। 
  • खरी-खोटी कहना - भला बुरा करना। 
  • गाल फुलाना - गुस्सा होना। 
  • खाक छानना - निरूद्देश्य भटकना। 
  • गंगा नहाना - दायित्व से मुक्ति मिलना। 
  • खेत रहना - युद्ध में मारे जाना। 
  • गुदड़ी का लाल होना - गरीबी में भी गुणवान होना। 
  • खाक में मिलना - नष्ट होना। 
  • गांठ पड़ना - द्वेष का स्थाई होना। 
  • खून खोलना - अत्यधिक क्रोध आना। 
  • खून पसीना एक करना - कड़ी मेहनत करना। 
  • गांठ बांधना - स्थाई रूप से याद करना। 
  • ख्याली पुलाव पकाना - कोरी कल्पना करना। 
  • गिरगिट की तरह रंग बदलना - अवसरवादी होना। 
  • खून का घूंट पीकर रह जाना - चुपचाप गुस्सा सहन कर लेना। 
  • गुड गोबर एक करना - बना बनाया काम बिगाड़ देना। 
  • खरी खरी सुनाना -  साफ-साफ कहना। 
  • गाल बजाना - बढ़ चढ़कर बातें करना। 
  • खून सूखना - भयभीत होना।  
  • गाजर मूली समझना - मामूली मानना। 
  • खटाई में पड़ना - कार्य में व्यवधान आना। 
  • गागर में सागर भरना - थोड़े से शब्दों में सब कुछ कह देना। 
  • खिचड़ी पकाना - गुप्त योजना बनाना। 
  • गले मढ़ना - जबरन कार्य सौंपना।  
  • गंगा नहाना - किसी कठिन कार्य को पूर्ण करना। 
  • गड़े मुर्दे उखाड़ना - पुरानी बातें करना। 
  • घर बसाना - विवाह करना। 
  • घड़ों पानी पड़ना - लज्जित होना। 
  • घाव हरा होना - भुला दुख दर्द याद आना। 
  • घर फूंककर तमाशा देखना - अपना नुकसान होने पर भी मौज करना।
  • घास काटना - बिना गुणवत्ता कार्य करना। 
  • घाट घाट का पानी पीना -  जगह-जगह का अनुभव होना। 
Tag: Lokoktiyan, Hindi Muhavare, Muhavare, Samanya Hindi Evm Vyakarn, Hindi Grammar, Muhavare and lokoktiyan in Hindi pdf, muhavare and lokoktiyan in hindi pdf download, muhavare and lokoktiyan difference, best hindi muhavare, muhavare arth ke sath,

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Top Post Ad

Below Post Ad